​              Viral video: बच्चों ने बताए 12 महीनों के हिंदी नाम, वीडियो हुआ वायरल
   
 

Viral video: बच्चों ने बताए 12 महीनों के हिंदी नाम, वीडियो हुआ वायरल

Mkyadu
3 Min Read

Viral video: क्या आपको 12 महीनो के हिंदी नाम पता है,यदि नही पता तो सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे इन नन्हे मुन्ने स्कूली बच्चों का ये वीडियो आपको जरूर से देखना चाहिए.

Whatsapp Channel
Telegram channel

यदि हमसे कोई पूछता है की सप्ताह के दिनों के नाम क्या है तो हम झट से इसका उत्तर दे देते हैं जैसे Monday को सोमवार, Tuesday को मंगलवार इत्यादि।

वही जब हमे कोई ये पूछता है की जनवरी को हिंदी में और क्या कहते हैं तो हम अचरज में पड़ जाते हैं….. यदि आपके साथ भी ऐसा होता है तो याद करले की किस महीने को क्या कहा जाता है तो स्कूली बच्चों का Viral video देख याद करलें महीनो के नाम…

दरअसल, इंस्टाग्राम पर एक स्कूल के द्वारा वीडियो शेयर किया गया है, जिसमें नन्हें स्कूली बच्चे बिलकुल सरल अंदाज में महीनों के हिंदी नाम बताते दिख रहे हैं. साथ ही उनके हाथ में महीने के हिंदी नाम लिखी हुई बड़ी सी स्लिप भी नजर आ रही है.

बच्चों की जुबान में यदि आप किसी महीने का नाम न समझ पाएं, तो उसे पढ़ भी सकते हैं. वीडियो में नजर आ रहे बारह बच्चे एक एक कर ये बता रहे हैं कि, किस महीने को किस हिंदी नाम से पहचाना जाता है।

बच्चे बता रहे 12 महीनो के हिंदी नाम(Children telling Hindi names of 12 months)

Viral Video के अनुसार 12 महीनों में से जनवरी को हिंदी में पौष कहा जाता है, फरवरी को माघ, मार्च को फाल्गुन, अप्रैल को चैत्र, मई को बैसाखी, जून को ज्येष्ठ, जुलाई को आषाढ़, अगस्त को श्रावण, सितंबर को भाद्रपद, अक्टूबर को अश्विन, नवंबर को कार्तिक और दिसंबर को मार्गशीर्ष.

हिंदी साल की शुरुआत होती है इस माह (Hindi year starts this month)

बच्चों ने वीडियो में तो जनवरी, फरवरी के हिसाब से हिंदी महीनों के नाम की जानकारी दी हैं. वहीं हिंदी कैलेंडर के अनुसार माने तो, चैत्र माह से साल की शुरुआत होती है , फिर आती है बैसाखी, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, पौष, माघ और फाल्गुन.

बच्चों के द्वारा सरल अंदाज में दी गई ये सिख सोशल मीडिया पर यूजर्स को खूब पसंद आ रही है. एक यूजर ने इसपर लिखा कि, ‘इन बच्चों को सलाम है.’ एक अन्य ने लिखा कि, ‘ बच्चों को सही शिक्षा मिल रही है. अपनी संस्कृति के बारे में समझना जरूरी है.’

Share This Article