​        Free Coaching Facility Raipur: फीस की झंझट खत्‍म, अब निशुल्‍क करें व्यापमं, नेट सहित अन्य परीक्षाओं की तैयारी…
   
 

Free Coaching Facility Raipur: फीस की झंझट खत्‍म, अब निशुल्‍क करें व्यापमं, नेट सहित अन्य परीक्षाओं की तैयारी…

Mkyadu
3 Min Read

Free Coaching Facility Raipur: छत्तीसगढ़ रायपुर के पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में आर्थिक तौर पर कमजोर युवाओं को सीजीपीएससी की निशूल्क तैयारी करवाई जा रही है। बहुत जल्द अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए भी तैयारी करवाने कक्षाएं शुरू करने करने का प्रयास किया जा रहा है।

Whatsapp Channel

Free Coaching Facility For Students: यूजीसी कोचिंग योजना के तहत संचालित हो रहे सेंटर में फिलहाल पीएससी की प्रारंभिक परीक्षा देने वाले 100 युवा अभ्यर्थी पढ़ाई कर रहे हैं।अभी पीजी कक्षाओं की विश्वविद्यालय में सेमेस्टर की परीक्षाएं चल रही है।

कोचिंग कक्षा के लिए उपयुक्त कमरे नहीं मिलने के चकते अभी नेट, व्यापमं, बैंकिंग जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू करवाने में थोड़ा विलंब है। फरवरी के प्रथम सप्ताह से इसके लिए कक्षाएं शुरू होने की संभावना है।

अधिकारियों के अनुसार,एक रेमिडीयल कोचिंग चलाई जाती है। जहां पर इंग्लिश ग्रामर की भी पढ़ाई होती है। पीएससी के कोचिंग में विश्वविद्यालय और साथ ही उसके बाहर के भी युवा पढ़ाई करने आते हैं।

कक्षाएं दोपहर दो बजे से शुरू होती है जो की शाम पांच बजे तक चलती है। विश्वविद्यालय के प्राध्यापक भी काेचिंग में छात्रों को पढ़ाते हैं। विषय विशेषज्ञ प्राध्यापक विषय को पढ़ाते हैं, बाकि जो अलग-अलग कोचिंग सेंटर में पढ़ाने वाले शिक्षक है, उन्हें अन्य विषयों को पढ़ाने के लिए नियुक्त किया गया है।

अन्य कक्षाओं के लिए आवेदन प्रक्रिया पूरी

नेट, व्यापमं, बैंकिंग के अगले महीने से शुरू होने वाली कक्षाओं के लिए आवेदन प्रक्रिया पूरी हो गई है। दिसंबर से ही विश्वविद्यालय प्रबंधन के द्वारा इसके लिए आवेदन मंगवाए गए थे। लेकिन विश्वविद्यालय की परीक्षाओं के वजह से कोचिंग कक्षाएं शुरू नहीं हो पाई है।

डा. अशोक प्रधान जो की यूजीसी कोचिंग सेंटर के प्रमुख हैं उन्होंने बताया कि 200 से भी अधिक आवेदन कोचिंग के लिए आए हैं। जो छात्र नेट की तैयारी करने वाले उनके लिए अलग से कक्षाएं चलाई जाएगी, बाकि प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को साथ में पढ़ाया जाएगा। सभी कक्षाओ में 100-100 छात्रों को प्रवेश दिया जाता है।

कोचिंग में इनको मिलती है प्राथमिकता

यूजीसी की इस कोचिंग योजना में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, आर्थिक रुप से असहाय छात्रों को कोचिंग में प्रवेश की अनुमति दी जाती है।

साथ ही सभी वर्गों की छात्राओं को प्रवेश की अनुमति है।सभी छात्रों को काेचिंग में छत्तीसगढ़ सामान्य अध्ययन, सामान्य गणित, अंग्रेजी, तर्कशक्ति, भाषा-क्षमता जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं।

Share This Article