​              Virat Kohli का करियर बनाने में धोनी के अलावा इस दिग्गज खिलाड़ी का रहा साथ, विराट ने किया खुलासा..
   
 

Virat Kohli का करियर बनाने में धोनी के अलावा इस दिग्गज खिलाड़ी का रहा साथ, विराट ने किया खुलासा..

Mkyadu
3 Min Read

IPL 2024 में शनिवार को CSK vs RCB का तगड़ा मुकाबला होने वाला है। दोनो ही टीम के लिए यह करो या मरो वाला मुकाबला है क्योंकि जो भी टीम ये मैच जीतेगी, वो प्लेऑफ में प्रवेश करेगी। RCB की इस समय सबसे बड़ी उम्मीद है विराट कोहली,जिनका बल्ला इस सीजन में खूब तहलका मचा रहा है।

Whatsapp Channel
Telegram channel

सीएसके से मैच से पहले Virat Kohli ने अपने करियर को लेकर बात की। और बताया कि अपने करियर के शुरुआत में धोनी के अलावा और किस खिलाड़ी से उन्हे सपोर्ट मिला..

साल 2008 के ऑस्ट्रेलिया दौरे का Virat Kohli ने जिक्र किया। जब वे प्लेइंग-11 में फिट नहीं हो पा रहे थे तब रैना के कहने के बाद उन्हें इमर्जिंग प्लेय़र टूर्नामेंट में खेलने का अवसर मिल पाया,जिसके बाद पूर्व चीफ सेलेक्टर दिलीप वेंगसकर के नजर में वे आ गए,फिर टीम इंडिया में पहुंचे।

रैना के कहने पर Virat Kohli को मिला मौका

जियो सिनेमा पर बात करते हुए Virat Kohli ने कहा, ”2008 में ऑस्ट्रेलिया में हम लोग इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट खेल रहे थे। उस दौरान इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट का महत्व ऐसा था कि बेस्ट क्रिकेटर जो की अपनी टीम के लिए खेलने की कगार पर पहुंच गए थे। वो सभी ऑस्ट्रेलिया में खेलने पहुंचे हुए थे। हमारे लिए ये बेहद महत्वूर्ण टूर्नामेंट था। तो मुझे अभी भी यह बात याद है कि शायद रैना ने ही मेरे बारे में सुना होगा। एस बद्रीनाथ शुरुआत में हमारे कप्तान हुआ करते थे। लेकिन, जब रैना बीच में आए तो वो लौट गए फिर रैना हमारे कप्तान बन गए। इस वक्त प्रवीण आमरे सर हमारे कोच थे और प्लेइंग-11 से उन्होंने मुझे बाहर रखा हुआ था।

करियर के शुरुआत में रैना से मिली Virat Kohli को मदद

कोहली ने आगे कहा, “शायद रैना ने नेट्स पर मुझे प्रैक्टिस करते देखा होगा। आमरे सर से तो फिर उन्होंने पूछा कि टीम में मैं क्यों नहीं हूं। मैं उस वक्त मिडिल ऑर्डर में बल्लेबाजी करता था वहीं अजिंक्य रहाणे ओपनिंग करते थे।

आमरे सर ने कहा था कि टीम में अभी मेरी जगह नहीं बन पा रही है। रैना ने ही तब जोर देते हुए कहा था कि मुझे खेलने का मौका देना चाहिए। और फिर प्रवीण सर ने बुलाकर मुझे कहा कि क्या मैं ओपनिंग करूंगा। इसपर मैंने कहा कि मैं कुछ भी कर लूंगा (कहीं भी बल्लेबाजी करूंगा), बस खेलने का अवसर दे । न्यूजीलैंड के खिलाफ तब मैंने ओपनिंग करी।उस समय चीफ सेलेक्टर दिलीप वेंगसरकर सर थे। मैंने तभी नाबाद 120 रन बना दिए, और उसी समय उन्होंने शायद ये निर्णय कर लिया था। की मुझे और भी अवसर मिलने चाहिए। कोहली ने रैना को इसके बाद थैंक्यू भी कहा।

Share This Article